Read Daily News or Be Left Behind ?

LATEST NEWS

Read Daily News Or Be Left Behind

Live in the Present & Plan for the Future

ऐप पर पढ़ें

मौसम विभाग ने अगले तीन महीनों के लिए अपना लॉन्ग वेदर अनुमान जारी किया है। इसके मुताबिक अप्रैल से जून तक हर साल होने वाली गर्मी से थोड़ा अधिक रहेगा। इसके अलावा लू के थपेड़ों वाले दिन भी ज्यादा रहेंगे। खासतौर पर मध्य प्रदेश, पूर्वी यूपी, बुंदेलखंड, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों अधिक गर्मी हो सकती है। मौसम विभाग ने सोमवार को बताया कि इसकी वजह अल-नीनो का सक्रिय होना है। हालांकि जुलाई से अल-नीना ऐक्टिव होगा और इसके चलते अच्छी बारिश होगी यानी मॉनूसन सामान्य रहेगा या फिर उससे भी बेहतर रहने का अनुमान है। इस तरह जून तक पड़ने वाली भीषण गर्मी से जुलाई में राहत भी मिल सकती है। 

हालांकि इस बीच राहत की एक खबर भी मौसम विभाग ने दी है। अनुमान जताया है कि उत्तर पश्चिम भारत के एक हिस्से में इस बार लू के थपेड़े थोड़े कम होंगे। मध्य प्रदेश, पूर्वी यूपी जैसे इलाकों के मुकाबले इस साल दिल्ली-एनसीआर, पश्चिम यूपी और हरियाणा में लू थोड़ी कम होगी। अनुमान है कि दिन के वक्त तापमान सामान्य से थोड़ा कम रहेगा। यही नहीं रातें भी अन्य क्षेत्रों की तुलना में थोड़ी कम गर्म होंगी। एक अनुमान यह भी है कि अप्रैल महीने में भी दिल्ली-एनसीआर में थोड़ी बारिश होगी। इससे तेजी से बढ़ रही गर्मी से थोड़ी राहत मिलेगी और उसकी रफ्तार को रोकने में भी मदद मिलेगी।

ये राज्य हो जाएं सतर्क, 5 दिन झुलसाएगी गर्मी; 42 डिग्री जाएगा पारा

भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि अगले तीन महीनों के दौरान महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे राज्यों में प्रचंड गर्मी होगी और लू चलेगी। वहीं उत्तर पश्चिम भारत में आंधी जैसी तेज हवाएं और बारिश भी होगी। बता दें कि उत्तर पश्चिम भारत में दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर जैसे राज्यों को शामिल किया जाता है। कई राज्यों में तो अप्रैल से ही लू चलने लगेगी। आमतौर पर अप्रैल के महीने में 1 से तीन दिन लू वाले होते रहे हैं। लेकिन इस बार लू वाले दिनों की संख्या 2 से 8 तक हो सकती है।

प्रचंड गर्मी के बीच ही चुनाव की भी गहमागहमी, सरकार की एडवाइजरी

अहम बात यह है कि भारत में 19 अप्रैल से लेकर 1 जून तक लोकसभा चुनाव के लिए वोटिंग भी होनी है। यह वही दौर होगा, जब देश में गर्मी चरम पर होगी और वहीं राजनीतिक गहमागहमी भी तेज होगी। इस बीच सरकार ने चुनाव को एडवाइजरी जारी की है कि गर्मी को देखते हुए मतदान केंद्रों पर सावधानी बरती जाए ताकि लोगों को गर्मी में बीमार होने से रोका जा सके। अर्थ साइंसेज मिनिस्टर किरेन रिजिजू ने कहा कि करीब एक अरब लोग मतदान करने जा रहे हैं। लेकिन संयोग है कि यही समय चुनाव का भी है। इसलिए कुछ सावधानियां बरतनी होंगी ताकि लोगों का स्वास्थ्य खराब न होने पाए।   

Source link

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *